केंद्र सरकार का बड़ा तोहफाः इस इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर किसानों के बच्चों को मिलेगी नौकरी, कंपनी को मिली जिम्मेदारी

ग्रेटर नोएडा। उत्तर प्रदेश के इस जिले के किसानों के जल्द ही अच्छे दिन आने वाले है।इसकी वजह उन्हें केंद्र सरकार का राज्य सरकार के साथ बड़ा तोहफा देना है।जी हां, यह नौकरी उन्हें कहीं आैर नहीं बल्कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड में मिलेगी।यूपी में यह पहली बार होने जा रहा है।जब अधिग्रहण के बाद उक्त किसान या उसके आश्रित पत्नी, बेटे या बेटी को नौकरी दी जाएंगी। इसकी जिम्मेदारी इस कंपनी को दी गर्इ है।

इस जिले के किसानों को मिलेगी नौकरी आैर मुआवजा

दरअसल आप को बता दें कि यह नौकरी आैर मुआवजा यूपी के गौतमबुद्धनगर जिले में स्थित जेवर के किसानों मिलेगा। इसकी वजह यहां देश के सबसे बड़े इंटरनेशनल एयरपोर्ट का बनना है। इसका शिलान्यास अक्टूबर माह में किया जाएगा। इसके लिए यमुना प्राधिकरण ने गांव के किसानों के साथ बैठक शुरू कर दी है। इसमें गांव वालों को अधिकारियों ने भूमि अधिग्रहण कानून के विषय में जानकारी दी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस अधिग्रहण कानून नीति में जमीन अधिग्रहण के बदले किसानों को मुआवजा राशि के साथ घर के एक सदस्य को नौकरी दी जाने की जानकारी दी।

मुआवजा राशि पर फंस रहा है पेच

किसानाें के साथ बैठकों का दौर शुरू हो गया है। प्राधिकरण अधिकारी से एडीएम आैर एसडीएम जैसे अधिकारी भी किसानों से वार्ता कर रहे हैं। लेकिन मुआवाजे की मांग को लेकर किसानों से पेच फंसा हुआ है। जहां कुछ किसान संगठन हाल में जमीन बेच चुके किसानों को 60 प्रतिशत अौर उनसे जमीन लेने वाले लोगों को 40 प्रतिशत मुआवजा देने की मांग कर रहे है। इसके साथ ही दर से ही कहीं ज्यादा मुआवाजे की डिमांड की है। उधर प्राधिकरण अधिकारी आैर सरकार ने उन्हें सर्किल रेट से दो गुणी दर मुआवजा देने की घोषणा की है।

आठ गांव के किसानों को मिलेंगा सबसे बड़ा फायदा

वहीं अधिकारियों के अनुसार एयरपोर्ट के लिए पहले चरण में 8 गांवों की 1327 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहित की जाएगी। यमुना अथॉरिटी ने अधिग्रहण का प्रस्ताव तैयार कर डीएम को सौंप दिया है। किसानों को मुआवजा बांटने के लिए सरकार ने डीएम को 330 करोड़ रुपये भी भेज दिए हैं। इन्हें अभी सुरक्षित रखा गया है। किसानों से चर्चा आैर जमीन अधिग्रहण करने पर सरकार द्वारा किसानों को मुआवजा दिया जाएगा।

देश का सबसे बड़ा होगा ये एयरपोर्ट

वहीं यमुना अधिकारियों की माने तो जेवर में बनने जा रहा इंटरनेशनल एयरपोर्ट क्षेत्रफल के अनुसार देश के सबसे बड़े एयरपोर्ट में शामिल होगा। इसके लिए तीन हजार हैक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा। इतना ही नहीं इसके साथ ही इस प्रोजेक्ट में दो रन-वे बनाए जाएंगे। जिसके बाद यहां एयरपोर्ट की पैसेंजर कैपिसिटी हर वर्ष करीब 70 मिलियन होगी। वहीं इस पर कार्गों कैपिसिटी भी काफी ज्यादा होगी।

Courtesy: https://www.patrika.com/